रिवर क्रूज के सहारे काशी नए युग के लिए प्रस्थान करने जा रही है-सीएम योगी

 



वाराणसी: दुनिया के सबसे बड़े यात्री क्रूज "गंगा विलास" से यात्रा प्रारंभ होने की पूर्वसंध्या पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि रिवर क्रूज के सहारे काशी नए युग के लिए प्रस्थान करने जा रहा है। काशी विश्व की सांस्कृतिक एवं आध्यात्मिक राजधानी के रूप में विख्यात हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में काशी अपनी पुरातन आत्मा को बनाए रखते हुए वैश्विक मंच पर स्थापित हुआ है। काशी थल और नभ के साथ-साथ अब जल मार्ग से भी जुड़ने जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह प्रसन्नता की बात है कि विश्व की सबसे बड़ी यात्री क्रूज "गंगा विलास" को कल शुक्रवार को प्रधानमंत्री हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे।






शंकर महादेवन के सांस्कृतिक कार्यक्रम में लोगो को सम्बोधित मुख्यमंत्री ने कहा कि काशी से हल्दिया तक विगत 3 वर्ष पूर्व हुई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जल परिवहन की शुरुआत की जा चुकी है। अब यात्री सेवा के साथ ही कार्गो सेवा भी काशी से प्रारंभ होगा। प्रधानमंत्री द्वारा यह सौगात काशी के साथ-साथ उत्तर प्रदेश को लोगों को दी गई है। उन्होंने कहा कि दुनिया के सबसे बड़े यात्री क्रूज "गंगा विलास" से यात्रा पर्यटन को बढ़ावा देने के साथ ही साथ जहां रोमांचकारी है, वही एडवांचर भी है।


केंद्रीय पत्तनपोत परिवहन और जलमार्ग तथा आयुष मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि एमवी गंगा विलास के उद्घाटन के साथ दुनिया की सबसे लंबे रिवर क्रूज का शुभारंभ होने जा रहा है। यह भारत जलमार्ग के क्षेत्र में नई इतिहास की रचना करेगा और साथ ही रिवर क्रूज पर्यटन के एक नए युग की शुरुआत का प्रतीक होगा। यह लग्जरी क्रूज भारत और बांग्लादेश के 5 राज्यों में 27 नदी प्रणालियों में 3,200 किलोमीटर से अधिक की दूरी तय करेगा। श्री सोनोवाल ने कहा कि इस सेवा के लॉन्च होने के साथ रिवर क्रूज की विशाल अप्रयुक्त क्षमता के इस्तेमाल की शुरुआत होगी।

श्री सोनोवाल ने कहा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व मेंहम उस अपार संपदा की खोज कर रहे हैंजो हमें समृद्ध नदी प्रणाली प्रदान करती है। अंतर्देशीय जलमार्गों के माध्यम से सतत विकास के इस मार्ग को जबरदस्त बढ़ावा मिला हैक्योंकि कार्गो ट्रैफिक के साथ-साथ यात्री पर्यटन को बढ़ाने के प्रयासों के उत्साहजनक परिणाम सामने आए हैं। एमवी गंगा विलास क्रूज देश में नदी पर्यटन की विशाल क्षमता को बढ़ावा देने की दिशा में एक कदम है। वैश्विक स्तर पर हमारी समृद्ध विरासत और आगे बढ़ेगीक्योंकि पर्यटक भारत की आध्यात्मिकशैक्षिककल्याणसांस्कृतिक और साथ ही जैव विविधता की समृद्धि का अनुभव करने में सक्षम होंगे।

कार्यक्रम में केंद्रीय राज्य मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति के साथ ही उत्तर प्रदेश के श्रम एवं सेवायोजन मंत्री अनिल राजभर, स्टांप एवं पंजीयन शुल्क राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रविन्द्र जायसवाल, आयुष एवं खाद्य सुरक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) दयाशंकर मिश्र 'दयालु', पूर्व मंत्री एवं विधायक डॉक्टर नीलकंठ तिवारी, विधायक डॉ अवधेश सिंह सहित गणमान्य लोग उपस्थित रहे। इस दौरान शंकर महादेवन ने शिव तांडव, गंगा अवतरण, शिव भोला भंडारी आदि अनेकों भजन प्रस्तुत किए।



 

 

Comments

Popular posts from this blog

Sitabdiara, the land of JP

Bachendri-Pal India's-first-woman conquered Mount-Everest

How Biodiversity keeps pandemics at bay